बिहार बोर्ड की मैट्रिक की परीक्षाएं 17 फरवरी से चालु हो जाएँगी। बिहार बोर्ड इन परीक्षाओं को लेकर जिलाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारियों को विशेष निर्देश जारी कर चुका है। बिहार बोर्ड ने बताया है की हर दिन परीक्षा समाप्त होने के बाद उत्तर पुस्तिका स्ट्रांग रूम में जमा करवाई जाएगी जो डी.एम् द्वारा बनाया गया है। केंद्र में एक बेंच पर ज्यादा से ज्यादा दो परीक्षार्थी बैठेंगे। इससे ज्यादा के बैठने की अनुमति नहीं है। इन परीक्षाओं में परीक्षा भवन के अंदर बच्चे जूते और मोज़े पहनकर नहीं आएंगे।
परीक्षा केंद्र में 25 बच्चों पर एक विक्षप निगरानी देगा और एक परीक्षा भवन में दो विक्षप रहेंगे। बिहार के विद्यालय परीक्षा समिति ने गुहार लगाई है की जो बच्चे प्रवेश पत्र घर पर भूल जाते हैं उनको भी परीक्षा भवन में बैठने का मौक़ा दिया जाये। मेट्रिक की परीक्षाओं में पिछले 2 वर्षो से करीब पचास प्रतिशत स्तुनिष्ट प्रश्न पूछे जा रहे हैं। पर इस बार की परीक्षा में 60 फीसदी सवाल पूछे जायेंगे पर करना पचास फीसदी के हिसाब से ही होगा। उम्मीद की जा रही है की इंटर की परीक्षा की तरह मैट्रिक की परीक्षा भी कदाचारमुक्त बीतें।
Share To:

Post A Comment: