• प्रस्ताव काे पथ निर्माण विभाग की हरी झंडी
  • राज्य सरकार काे देनी हाेगी अतिरिक्त राशि
  • पटना. पथ निर्माण विभाग ने अशाेक राजपथ पर मेट्राे की अंडरग्राउंड लाइन बिछाने की हरी झंडी दे दी है। कैबिनेट से मंजूरी बाकी है। इसकाे बनाने में अतिरिक्त 500 कराेड़ रुपए खर्च हाेंगे। कैबिनेट से मंजूरी मिलने के साथ ही राज्य सरकार अंडरग्राउंड लाइन बिछाने के लिए पटना मेट्राे रेल कॉरपोरेशन काे राशि उपलब्ध कराएगी। पटना मेट्राे रेल कॉरपोरेशन ने अशाेक राजपथ पर एलिवेटेड लाइन बिछाने की मंजूरी दी थी। एलिवेटेड लाइन बिछाए जाने से पटना सिटी से राजधानी काे जाेड़ने वाली सड़क के अस्तित्व पर ही संकट खड़ा कर हाेने की अाशंका थी। एेसे में पथ निर्माण विभाग के प्रस्ताव पर पटना मेट्राे रेल कॉरपोरेशन ने मंथन के दाैरान पाया है कि एलिवेटेड लाइन काे अंडरग्राउंड बनाने में 500 कराेड़ रुपए अतिरिक्त खर्च अाएगा। यह राशि अगर राज्य सरकार वहन करेगी ताे मेट्राे लाइन भी अंडरग्राउंड बिछ सकती है।
    जीराेमाइल से न्यू आईएसबीटी तक एलिवेटेड
    पटना जंक्शन से पटना मेट्राे के पहले फेज का निर्माण कार्य शुरू हाे रहा है। यहां मिट्टी की जांच की जा रही है। पटना जंक्शन से न्यू आईएसबीटी का नाम नाॅर्थ-साउथ काॅरिडाेर रखा गया है। 2024 तक पूरा हाेने वाले पहले फेज की लाइन अब पटना जंक्शन से फ्रेजर राेड हाेते करगिल चाैक, अशाेक राजपथ, एनअार्इटी माेड से गांधी सेतु जीराेमाइल तक अंडरग्राउंड बनेगा। इसके बाद जीराेमाइल से न्यू अार्इएसबीटी तक एलिवेटेड बनाया जाएगा।
    इस बदलाव का कारण क्या
    अशाेक राजपथ पुराना पटना यानी पटना सिटी से आधुनिक पटना काे जाेड़ने वाली महत्वपूर्ण सड़क है। इस रोड पर वाहनों का दवाब इतना है कि हर समय जाम की समस्या बनी रहती है। इसके साथ ही पीएससीएच के साथ पटना विवि, पटना डेंटल काॅलेज, पटना व्यवहार न्यायालय हाेने के साथ पुराना बाजार है। शहर के पश्चिमी से लेकर पूरबी छाेर तक के दवा व्यवसायियों के लिए सबसे बड़ी मंडी गोविंद मित्रा राेड है। यह सड़क दानापुर से गांधी मैदान अाैर गायघाट हाेते गुरुद्वारा काे जाेड़ती है। एलिवेटेड मेट्राे का निर्माण हाेने से सड़क की चौड़ाई अाैर कम हाेगी।
    13365 कराेड़ खर्च करने की याेजना
    पटना मेट्राे का निर्माण कार्य दाे चरणाें में पूरा हाेगा। पहले चरण का नाम नाॅर्थ-साउथ काॅरिडाेर रखा गया है। यह पटना जंक्शन से न्यू अाईएसबीटी तक जाएगी। दूसरे चरण में बनने वाले का नाम ईस्ट-वेस्ट काॅरिडाेर रखा गया है। यह पटना जंक्शन से दानापुर तक जाएगा। दाेनाें पर 13365 कराेड़ की राशि खर्च हाेगी। अभी केंद्र सरकार ने 50 कराेड़ अाैर राज्य सरकार ने 100 कराेड़ की राशि उपलब्ध कराई है। इसके बाद पटना जंक्शन स्टेशन पर मिट्टी जांच शुरू हुई है। इंजीनियराें के मुताबिक 120 फीट नीचे तक मिट्टी की खुदाई हाेगी।
Share To:

Post A Comment: