जीवन में हमेशा सकारात्मक सोच रखें। लोगों की जुबान बनें। सेवा भाव से काम करें। लोगों का सेवक बनें। शासक बनकर काम नहीं करें। यहां से सूबे के जिस क्षेत्र व जिले में जाएं तो वहां के लोगों को यह अहसास हो कि बिहार पुलिस अकादमी से प्रशिक्षण पाकर कोई अधिकारी थाने में आया है। वहां जाने के 15 दिनों के अंदर विधि व्यवस्था व अपराध पर नियंत्रण करें। लोगों को यह दिखायें कि आप पूरी तरह से सुरक्षित हैं। अपराधियों में डर पैदा करें। ये बातें पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने रविवार को बिहार पुलिस अकादमी में 2009 के आठवें बैच के 136 पास पुलिस अवर निरीक्षकों का पास आउट परेड के निरीक्षण के बाद कहीं। 
डीजीपी ने कहा कि सूबे में शराबबंदी है। इसके बाद भी कहीं शिकायत मिलती है तो उस पर तुरंत कार्रवाई करें। यहां से जाने के बाद वे पुलिस विभाग के आंख व कान बनकर काम करें। अपने थाने व क्षेत्र में यह सुनिश्चित करें कि वहां पर शराब, जुआ, लॉटरी का धंधा न पनपे। ऐसा हो तो वे सीधे मुझसे बात करें। 
डीजीपी ने कहा कि बिहार पुलिस अकादमी में जवानों का स्कील डेवलपमेंट के साथ ज्ञान व बेहतर सोच दी जाती है। इससे वे दूसरे केन्द्र के जवानों से अलग हो जाते हैं। जवानों में स्कील डेवलपमेंट बहुत जरूरी है। हमेशा उत्साहित रहें। प्रतिभा को दिखायें और लोगों की सेवा भावना को सर्वोपरि रखें। यहां से ज्यादा तर पुलिस अवर निरीक्षकों को अपराध से प्रभावित जिले में भेजा जायेगा। उन्होंने कहा कि भगवान ने उन्हें इस सेवा में भेजकर एक बेहतर मौका दिया है। लोगों के अधिक से अधिक सेवा करें। सेवा से लोगों का दिल जीतें। 
ऐसा करें काम कि लोग रखें याद: 
उन्होंने कहा कि ऐसा काम करें कि लोगों की जुबान पर आपकी चर्चा हो। लोग चर्चा करें कि कोई पदाधिकारी बिहार पुलिस अकादमी से आये हैं। श्री पांडेय ने कहा कि प्रशिक्षण के दौरान सैद्धांतिक पढ़ाई के साथ प्रायोगिक बहुत जरूरी है। इसके बिना सही जानकारी नहीं मिल पाती। सबों को धारा की जानकारी का होना अनिवार्य है। इसकी जानकारी से ही वे अपने क्षेत्र की जनता के साथ न्याय कर पायेंगे। उन्होंने कहा कि वैसे 20 अवर निरीक्षक जो इस परीक्षा में पास नहीं हुए हैं वे निराश न हों। अपने क्षेत्र में जाकर पूरी बुलंदी के साथ काम करें। अगले साल परीक्षा में शामिल होकर पास करें। परेड के दौरान अवर निरीक्षकों ने अपने हुनर को करतब में दिखाया।इस  मौके पर उप निदेशक डॉ. परवेज अख्तर, उप निदेशक(प्रशासन)हिमांशु शंकर त्रिपाठी, अतिरिक्त महानिदेशक भृगु श्रीनिवासन, आईजी पारसनाथ, एसपी अजय कुमार पांडेय, सीआरपीएफ के प्राचार्य ब्रिगेडियर के बिरेन्द्र, एसडीओ संजय कुमार सहित अन्य मौजूद थे।  
Share To:

Post A Comment: