• बरौनी से सिपारा तक हड़कंप, 2 घंटे में पाइप को किया खाली, मरम्मत में लगे 14 घंटे
  • टली बड़ी दुर्घटना, डीजल लूटने की होड़, लाेग बोतल, बरतन और डिब्बा लेकर पहुंच गए
  • फुलवारीशरीफ. नमामि गंगे प्राेजेक्ट के तहत नाला निर्माण के दौरान इंडियन आॅयल की बरौनी-कानपुर पाइपलाइन में लीकेज हो जाने से हजारों लीटर तेल बह गया। जानकारी मिलते ही कंपनी के अधिकारियों ने पाइपलाइन से तेल की आपूर्ति रोक दी। सड़क के किनारे तेल बहने के कारण एहतियातन अग्निशमन दस्ते को बुलाया गया। दो घंटे की मशक्कत के बाद लीकेज पर काबू पाया गया। बेउर के सिपारा स्थित राधामोहन काॅलाेनी में एलएंडटी कंपनी नमामि गंगे प्राेजेक्ट का काम कर रही है। इसी के तहत बाइपास के 70 फीट के पास नाला निर्माण के लिए गहरा गड्ढा खोदा गया था। इसी दौरान मंगलवार की सुबह इंडियन ऑयल की बरौनी-कानपुर पाइपलाइन में छेद हो गई। मंगलवार की सुबह करीब 5 बजे लोग माॅर्निंग वाॅक के लिए निकले तो देखा कि सड़कों पर डीजल बह रहा है। तेल पास के पानी भरे गड्ढे में जा रहा था। तेल बहने की खबर फैलते ही डीजल लूटने की होड़ लग गई। पुरुष, महिलाएं अाैर बच्चे बोतल, बरतन अाैर प्लास्टिक का डिब्बा लेकर पहुंच गए। 
    अफसरों के बीच मचा हड़कंप, लाेग भी घराें से निकले
    पाइपलाइन में छेद होने के बाद बजे अलार्म से तेल डिपो के अधिकारियाें में हड़कंप मच गया। बेउर पुलिस के साथ इंडियन ऑयल के अधिकारी आनन-फानन में मौके पर पहुंचे और कर्मियों की मदद से डीजल बहते एरिया की घेराबंदी और माइकिंग कराकर लोगों को सावधान कर दिया। माइक से एेलान किया गया कि बीड़ी, सिगरेट जैसी ज्वलनशील वस्तुओं को इधर न फेंकें। एहतियातन अग्निशमन दस्ते को भी बुलाया गया। आसपास के घर वालों में अफरातफरी मच गई। कई लोग दहशत के कारण घर छोड़कर बाहर निकल गए। 
    सुरक्षा के किए गए थे पुख्ता इंतजाम
    स्थानीय इंजीनियरों ने बताया कि सूचना मिलते ही पाइप को दाे घंटे के अंदर डीजल से खाली कर दिया गया। पाइप की मरम्मत में 14 घंटे का समय लगा। एहतियात के तौर पर घटनास्थल पर सभी तरह के सुरक्षा इंतजाम किए गए थे। उधर इंडियन ऑयल सिपारा के स्टेशन मैनेजर अभय किशोर ने बताया कि सुबह 5:35 बजे सूचना िमली। कितना नुकसान हुआ है, इसका आकलन करने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। थानेदार फुलदेव चाैधरी ने कहा कि आईओसी के अधिकारी से बात हुई है, वह सनहा दर्ज कराएंगे।
    बिना सूचना कंपनी ने कर दी खुदाई
    इंडियन अाॅयल के मुख्य महाप्रबंधक केके चाैधरी ने बताया कि बुडको को खुदाई की अनुमति दी गई थी। शर्त थी कि खुदाई आईओसी के इंजीनियर की निगरानी में हो। लेकिन बुडको ने खुदाई का जिम्मा एल एंड टी कंपनी को सौंप दिया। कंपनी ने बिना सूचना खुदाई शुरू कर दी, जिसके कारण पाइप क्षतिग्रस्त हो गया। सूचना मिलने पर सप्लाई बंद की गई और डीजल को मुगलसराय स्टेशन से खाली करवाया गया।
    आईओसी ने पाइप की गलत जानकारी दी
    एल एंड टी कंपनी के वित्त प्रशासन प्रबंधक मो. मुस्ताक ने बताया कि आईओसी द्वारा दो मीटर नीचे पाइप बताया गया था, जिसे छोड़कर कंपनी सीवरेज के लिए मशीन से चार मीटर नीचे खुदाई कर रही थी। लेकिन पाइप दो मीटर की बजाय चार मीटर नीचे था, जिससे क्षतिग्रस्त हाे गया। बीके पाइपलाइन के असिस्टेंट मैनेजर अनुराग कुमार ने बेउर थाने में सनहा दर्ज कराया है। वरीय पदाधिकारी क्षति का आकलन कर रहे हैं।
Share To:

Post A Comment: