पटना: बिहार में जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष और वामपंथी नेता कन्हैया कुमार के काफिले पर लगातार हो रहे हमले पर पहली बार नीतीश सरकार ने सख्त कदम उठाया है. जिन जिलों से कन्हैया का काफिला गया और हमला हुआ वहां क्या कार्रवाई हुई इस पर राज्य के अपर मुख्य सचिव गृह विभाग ने जवाब तलब किया और बाकी जिलों के अधिकारियों को सुरक्षा के लिए निर्देश दिए.
शनिवार को वामपंथी दल को ओर से प्रतिनिधि मंडल से मिलकर सुरक्षा की गुहार लगाई गई. बता दें कि कन्हैया कुमार के काफिले  पर आठ बार हमला किया गया. आरा जिले में हुए हमले में कन्हैया कुमार बाल-बाल बचे. इस दौरान काफिले में मौजूद कई लोगों को चोट लगी.
मोर्चे की तरफ जारी किया गया प्रेस रिलीज
जन गण मन यात्रा पर लगातार हो रहे हमले के मद्देनजर मोर्चे की तरफ से एक छ: सदस्यीय दल ने गृह सचिव आमिर सुबहानी से मुलाकात कर उन्हें स्थिति से अवगत कराया और कहा कि सरकार यात्रा को सुरक्षा नहीं दे पा रही है और अपराधी बिना भय के पुलिस के सामने हमला कर रहे हैं .मोर्चे के साथियों ने मांग रखी कि सरकार उन्हें बताये कि कितनी जगह उपद्रवियों पर पुलिस ने कारवाई की है. उन्होंने यात्रा की सुरक्षा पर ढिलाई बरतने का आरोप भी लगाया. प्रतिनिधिमंडल में कल्याणी, चन्द्रकान्ता, निवेदिता झा, अफजल हुसैन, अनारुल होदा और मिंटू शामिल थे.
बता दें कि 14 फरवरी को आरा जिले के पास नकाबपोश लोगों ने कन्हैया कुमार की यात्रा पर पत्थर और लाठी से वार किया. कन्हैया कुमार और शकील अहमद खां की गाड़ी का शीशा तोड़ा और उनपर हमला किया गया .इस हमले में कन्हैया कुमार और साथी बाल बाल बचे . यात्रा दल में शामिल सरोज, गालिब और कुछ अन्य साथियों को चोट लगी .इससे पहले आरा में ही मंच को क्षतिग्रस्त किया गया. उनकी यात्रा पर लगातार हमला हो रहा है. आरा में हुआ ये हमला 8वीं बार हुआ था . कई बार हमला पुलिस की मौजूदगी में हुआ है. रैली की सदस्य निवेदिता झा ने कहा कि रैली को लोगों का समर्थन मिल रहा है और इससे बौखला कर संघ परिवार के कार्यकर्ताओं द्वारा लगातार हमला किया जा रहा है. रैली में शामिल गालिब ने कहा कि पुलिस के सामने ही हमला किया जा रहा है.
By Shubhanshu mtvnewsbihar

Share To:

Post A Comment: