इलाज के दौरान होटल मैनेजर की मौत के बाद आक्रोशित लोगों ने मंगलवार शाम ब्रह्मपुरा स्थित एक निजी अस्पताल में हंगामा किया। इससे अस्पताल में अफरातफरी मच गई। मरीज अपने परिजन के साथ जहां-तहां भागने लगे। लोगों का आक्रोश देख डॉक्टर व अस्पताल कर्मी दहशत में आ गए। लोगों ने अस्पताल के डॉक्टरों पर इलाज में लापरवाही बरतने व मनमाने तरीके से बिल बनाने का आरोप लगाया। अस्पताल में हंगामे की सूचना मिलते ही ब्रह्मपुरा थानेदार विश्वनाथ राम दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने लोगों को समझाने की कोशिश की। लेकिन, हंगामा कर रहे कई लोग थानेदार से उलझ गए। पुलिस ने जब सख्ती दिखायी तो लोग शांत हुआ। मृतक 35 वर्षीय बबूल सिंह गायघाट के कमरथु का रहने वाला था। फिलहाल, वह अपने परिवार के साथ सदर थाना के भगवानपुर इलाके में रह रहा था। बबलू दिल्ली के एक होटल में मैनेजर था। इन दिनों घर आया हुआ था। उसके पड़ोसी प्रकाश व अन्य लोगों ने बताया कि सुबह करीब चार बजे उन्हें खून की उल्टी हुई। इसके बाद परिजनों ने आनन-फानन में ब्रह्मपुरा के अस्पताल में भर्ती कराया। शाम करीब चार बजे उसकी मौत हो गई। लोगों ने आरोप लगाया कि दिनभर उस आईसीयू में रखा गया। इस बीच दोपहर तीन बजे ही डॉक्टर उसे देखने पहुंचे। इलाज में देरी के कारण उनकी मौत हो गई। परिवार के एक किशोर से एक कागज पर हस्ताक्षर कराकर शव सौंप दिया गया। शव जाने के बाद दर्जनों लोगों ने अस्पताल पहुंचकर हंगामा किया। थानेदार विश्वनाथ राम ने बताया कि मरीज की मौत से आक्रोशित लोगों ने अस्पताल में हंगामा किया। लोगों को समझा बुझाकर शांत कराया गया। मामले में एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई की जाऐगी।
BY :- SHUBHANSHU (MTVNEWS.IN)
Share To:

Post A Comment: