माेतिहारी. छाैड़ादानाे प्रखंड के हीरामणि भगड़ी टोला में 65 लोगों को सर्दी, जुकाम व बुखार की सूचना मिलने पर शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। पटना से संयुक्त सचिव सह काेराेना के जिला नाेडल पदाधिकारी डॉ. नागेश्वर प्रसाद सहित सिविल सर्जन डाॅ. मोहम्मद रिजवान अहमद मेडिकल टीम के साथ हीरामणि गांव पहुंच गए। टीम में शामिल एसीएमओ पीकेपी सिंह, एसजेओ पीके सिन्हा, डाॅ. अनिल सिन्हा आदि डाॅक्टराें ने एक-एक कर सभी आदमी की जांच की गई।
इस दाैरान 55 वर्षीय सावित्री देवी, 56 वर्षीय रामेश्वर सहनी और 4 वर्षीय शिवम कुमार काे ज्यादा दिक्कत हाे रही थी, जिन्हें सेनेटाइज्ड एंबुलेंस से सदर अस्पताल भेजा गया। अन्य की स्थिति सामान्य थी। डाॅक्टराें ने दवा दी अाैर काेराेना से भयभीत नहीं हाेने की सलाह दी। उधर, गांव में कोरोना को लेकर भय का माहौल व्याप्त है। हालांकि मेडिकल टीम उस गांव में कैंप कर रही है।
संयुक्त सचिव ने कहा- भय में नहीं रहें
संयुक्त सचिव ने बताया कि लोगों को डरने की जरूरत नही है। सतर्कता बरतने की जरूरत है। कहा कि बिहार के बाहर रहकर काम करनेवालों लोगों के घर आने पर फौरन सूचना दें। ताकि उनकी जांच करा संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। संक्रमित लोगों में 4 वर्ष के बच्चे से लेकर 60 वर्ष तक के वृद्ध महिला पुरुष शामिल हैं।

कोरोना की रिपोर्ट निगेटिव आई है
गांव के 24 वर्षीय युवक श्यामसुंदर सहनी दिल्ली में सिलाई का काम करता था। वह एक सप्ताह पहले गांव लौटा था। उसको सर्दी व बुखार होने पर बुधवार को सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया। प्रखंड चिकित्सा प्रभारी डॉ. एजाज अहमद ने बताया कि श्यामसुंदर में कोरोना का लक्षण नहीं मिला है। कोरोना की जांच में रिपोर्ट निगेटिव आई है। वह टायफायड से संक्रमित था।
Share To:

Post A Comment: