HYDERABAD : कोरोना वायरस के खतरे को रोकने के लिए सरकार ने 21 दिनों के लॉक डाउन का एलान किया है. पूरे देश पर महामारी का खतरा मंडरा रहा है. लेकिन इस बीच कई खबरें हौंसला बढ़ाने वाली भी है. एक युवा महिला सरपंच अपने गांव को कोरोना से बचाने के लिए खुद लाठी लेकर उतर आयी है. वो गांव के बाहर लाठी लेकर बैठ गयी है ताकि न कोई बाहर से आ पाये और ना ही कोई गांव से बाहर जा पाये.
युवा महिला सरपंच की बहादुरी
तस्वीरों में आप जिस महिला को देख रहे हैं वो तेलंगाना सूबे के मदनापुर की सरंपच अखिला यादव की है. गांव के लोगों ने बड़े भरोसे के साथ युवा अखिला को अपना सरपंच चुना था. मुसीबत की इस घड़ी में अखिला गांव को बचाने की जिम्मेवारी निभाने के लिए खुद आगे आयी है.
ग्रामीणों के मुताबिक लॉक डाउन की घोषणा के बाद सरपंच अखिला यादव हाथों में लाठी लेकर घऱ से बाहर निकल आयी है. अखिला गांव के बाहर लाठी लेकर बैठ गयी है. गांव के सभी लोगों को बाहर निकलने से रोक दिया. फिर भी कोई बाहर निकलने की सोंच रहा है तो अखिला उसे ऐसा करने नहीं दे रही है. वहीं गांवों में बाहरी लोगों की एंट्री भी बंद कर दी गयी है. अखिला यादव खुद ये सुनिश्चित कर रही है कि कोई बाहर से आकर गांव में कोरोना वायरस न फैला जाये.

तेलंगाना में बढ़ता जा रहा है कोरोना का खतरा
तेलंगाना में कोरोना का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है. हालात बेकाबू होते देख मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने लॉक डाउन का सख्ती से पालन करने को कहा है. मुख्यमंत्री ने कहा है कि अगर लोग नहीं माने तो लॉक डाउन के दौरान घऱ से बाहर दिखने वालों को देखते ही गोली मार देने के आदेश दिये जा सकते हैं. तेलंगाना के सीएम ने 21 दिनों तक कर्फ्यू लगाने के भी संकेत दिये हैं. सूबे में कोरोना मरीजों की तादाद बढ कर 39 हो गयी है.
गौरतलब है कि 22 मार्च से 31 मार्च तक लॉकडाउन का एलान करने वाले तेलंगाना में सरकार ने मंगलवार को घोषणा की है कि लॉकडाउन के दौरान पूरे सूबे में शाम सात बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू रहेगा. तेलंगाना में कल ही कोरोना के चार नये मामले सामने आये हैं.
Share To:

Post A Comment: