नई दल्ली. कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए किए गए 21 दिन के लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) में हरियाणा सरकार ने किसानों के लिए बड़ा ऐलान किया है. बंद के दौरान किसान अपने खेतों में बेरोकटोक आवाजाही कर सकेंगे. ताकि फसल कटाई में उन्हें कोई दिक्कत न हो. इस समय गेहूं, सरसों, चना आदि की फसल तैयार है. सीएम मनोहरलाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) ने कहा है कि कटाई के लिए कंबाइन हार्वेस्टर सहित किसी मशीन को सड़क पर नहीं रोका जाएगा. राज्य सरकार ने इस बारे में पुलिस (Police) और प्रशासन को निर्देश जारी किए हैं. इस निर्देश के बाद प्रदेश के किसान परिवारों से राहत की सांस ली है.



कृषि मंत्री जेपी दलाल ने बताया कि कोरोना लॉकडाउन में किसानों के लिए प्रदेश सरकार ने एक गाइडलाइन जारी की है. ताकि बंद की वजह से उन्हें कोई परेशानी न हो. किसानों की गेहूं और सरसों फसल की खरीद हर साल की तरह इस साल भी सही वक्त पर केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP-Minimum Support Price) पर की जाएगी.
फसल बिकवाने में कोई अड़चन नहीं: कृषि मंत्री

दलाल ने कहा कि मंडियां चलाने और किसान की फसल बिकवाने में कोई अड़चन नहीं आने दी जाएगी. खेतों में जरूरी मशीनें ले जाने पर किसानों को कोई परेशानी नहीं होगी. फसल को खराब नहीं होने दिया जाएगा. इसी तरह सब्जी उत्पादकों की पैदावार को मंडी तक ले जाने के लिए भी कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी. सभी जिलों को इसके निर्देश जारी किए गए हैं.

उधर, सरकार ने यह भी कहा है कि कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से रबी फसलों की सरकारी खरीद में तीन सप्ताह की देरी हो सकती है. इसके लिए सरकार गेहूं की खरीद पर सवा सौ रुपये प्रति क्विंटल तक का बोनस देगी.
मौसम ने डराया: 10 जिलों में अलर्ट

इस समय रबी की फसल खेतों में तैयार खड़ी है तो दूसरी ओर खराब मौसम की मार पड़ने की संभावना है. हरियाणा के 10 जिलों में बारिश, ओलावृष्टि और आंधी का अलर्ट जारी किया गया है. जिससे किसानों की चिंता बढ़ गई है. मौसम विभाग के चंडीगढ़ केंद्र ने सिरसा, जींद, फतेहाबाद, हिसार, पंचकूला, हिसार, अंबाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, कैथल और करनाल के लिए अलर्ट जारी किया है.

Share To:

Post A Comment: