बरौनी, बेगूसराय। कोरोना के संक्रमण के कारण बरौनी डेयरी के दूध व उससे जनित उत्पादों की बिक्री पर भी काफी बुरा असर पड़ रहा है। बरौनी डेयरी के प्रबंध निदेशक एसआर मिश्रा एवं विपणन पदाधिकारी रूपेश कुमार ने बताया कि बरौनी डेयरी किसानों से दूध लेने के लिए कटिबद्ध है। बीते दो दिनों से पशुपालकों ने 6.22 लाख लीटर से 6.59 लाख लीटर दूध की आपूर्ति की गई है। जबकि अभी बरौनी डेयरी लगभग 5.50 लाख लीटर दूध ही लेना चाहती है। उन्होंने कहा कि रेलवे टैंकर नहीं चलने से दूध झारखंड व पटना नहीं जा रहा है। वहीं दूध जनित उत्पादों की बिक्री में भी कमी हुई है। इसके कारण प्रबंधन ने निर्णय लिया है कि अभी दूध का पाउडर बनाकर स्टोर किया जाए। पाउडर के लिए नई दिल्ली सहित अन्य जगहों पर बातचीत चल रही है। उन्होंने बताया कि पहले बाजारों में लगभग डेढ़ लाख लीटर दूध व दूध जनित उत्पादों की बिक्री होती थी। जो एकाएक घटकर आधी हो गई है, मुश्किल से 70-75 हजार लीटर दूध व उससे जनित उत्पादों की बिक्री हो पा रही है। इसलिए अभी ज्यादा से ज्यादा पाउडर बनाया जा रहा है। दोनों पदाधिकारियों ने बताया कि सरकार के द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों का वे शत-प्रतिशत पालन करा रहे हैं। सभी दुग्ध समितियों के पास सैनिटाइजर की व्यवस्था कराई जा रही है। समिति में दुग्ध देने के लिए आने वाले पशुपालकों को एक-एक मीटर की दूरी पर खड़े रहकर दुग्ध देने के लिए बताया गया है। बरौनी डेयरी परिसर एवं कार्यालय में भी समय-समय पर सैनिटाइजर, ब्लीचिग पाउडर आदि का छिड़काव कराया जा रहा है। ताकि किसी भी प्रकार की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े।
Share To:

Post A Comment: