कोरोना के कहर के बीच बिजली उपभोक्ताओं के लिए ये राहत की खबर है। बिजली बिल नहीं जमा करने पर भी अभी कनेक्शन नही कटेगा। बिजली बिल का मैसेज भेजने के दौरान कनेक्शन काटने को कंपनी ने फिलहाल हटा लिया है। 
कोरोना के कारण घर-घर बिजली बिल भेजना संभव नहीं 
दरअसल कोरोना के कारण राज्य के 1 करोड़ 60 लाख से अधिक उपभोक्ताओं को घर-घर बिजली बिल भेजना मुश्किल है। हालांकि बिल तो कंपनी इलेक्ट्रॉनिक माध्यम यानी मैसेज और ईमेल पर भेज भी दे रही है। लेकिन तय समय में भुगतान नही होने पर कनेक्शन काटना संभव नहीं है। चूंकि कोरोना में सोशल डिस्टेर्नंसग का पालन जरूरी है। जबकि कनेक्शन काटने में सोशल डिस्टेर्नंसग का पालन नही हो सकेगा। कर्मचारियों को जबरिया भेजने पर उन्हें कोरोना का खतरा बन जाता। इसलिए कंपनी ने तय किया कि फिलहाल उपभोक्ताओं को बिजली बिल की जानकारी ही केवल दी जाए। इसमें भी चूंकि मीटर की र्रींडग संभव नही है। इस कारण उपभोक्ताओं को औसतन बिल ही दिया जाएगा।
4000 मेगावाट तक हो रही है हर रोज सप्लाई
कोरोना के कहर के बीच बिजली कंपनी ने हर रोज 4 हजार मेगावाट तक बिजली सप्लाई का दावा किया है। अधिकारियों के अनुसार अभी के मौसम में न तो ठंड है और न ही गर्मी। दुकान-बाजार भी पूरी तरह बंद हैं। इस कारण पिछले महीने की तुलना में इस महीने बिजली खपत में कोई खास वृद्धि नही हुई है।  जरूरत के अनुसार पीक आवर में 4 हजार मेगावाट तक की सप्लाई हो रही है। लोड र्शेंडग या ट्र्रिंपग के सवाल पर अधिकारियों ने कहा कि  फरवरी और मार्च में मेंटेनेंस का काम होता है। अधिकतर काम हो गए हैं । कुछ इलाकों का काम बच गया है जिसे लॉक डाउन के बाद किया जाएगा।
Share To:

Post A Comment: