मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Maharashtra's CM Uddhav Thackeray) ने रविवार को आश्वस्त किया कि उनकी सरकार सभी प्रवासी मजदूरों की देखभाल करेगी और मूलभूत जरूरतें जैसे खाना-पानी उपलब्ध कराएगी. वेबकास्ट के जरिये उन्होंने बताया कि 'शिव भोजन' योजना के तहत एक अप्रैल से 10 रुपये के बजाय पांच रुपये में खाना मिलेगा.
ठाकरे ने बताया कि पूरे राज्य में पहले ही 163 केंद्र स्थापित किए जा चुके हैं जहां पर प्रवासी मजदूरों को खाना और पानी मुहैया कराया जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘राज्य उनकी रक्षा करेगा और खाना मुहैया कराएगा लेकिन उन्हें अपने स्थानों को छोड़कर नहीं जाना चाहिए. मैं समझ सकता हूं कि वे चिंतित हैं लेकिन उन्हें नहीं जाना चाहिए. उन्हें संक्रमण के खतरे को बढ़ाने से बचना चाहिए.’’
घरों के लिए पैदल निकल रहे हैं मजदूर
उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए राष्ट्रव्यापी बंदी लागू की गई है जिसकी वजह से कई मजदूरों के पास काम नहीं है और वे अपने पैतृक स्थानों को लौट रहे हैं. कई लोग पैदल अपने घरों की ओर जा रहे हैं जबकि कुछ राज्य से बाहर निकलने के लिए सामान के ट्रकों और ट्रैम्पों का सहारा ले रहे हैं लेकिन पुलिस जांच के दौरान पकड़े जा रहे हैं.

इस बीच स्वास्थ्य अधिकारी ने रविवार को बताया कि 15 नये मामलों के साथ महाराष्ट्र में कोरेाना वायरस संक्रमितों की संख्या 196 हो गई है.

64 मजदूरों को ले जा रहा ट्रक पकड़ा गया
वहीं मुंबई से रविवार को 64 मजदूरों को अवैध रूप से उत्तर प्रदेश ले जा रहे एक ट्रक को पकड़ा गया और इसे चलाने वाले दो भाइयों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. साकी नाका पुलिस ने यह जानकारी दी. एक अधिकारी ने बताया कि पवई में सुबह मजदूरों को एक ट्रक में लदे हुए पाया गया.
एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ट्रक चला रहे अमजद अली रज्जाक शाह (32) और उसके भाई व वाहन के मालिक मोहम्मद शाह के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. वे उन्हें उत्तर प्रदेश ले जाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति से 2,500 रुपये ले रहे थे.’’ जोन एक्स के पुलिस उपायुक्त अंकित गोयल ने कहा कि मजदूरों को छोड़ दिया गया, जबकि नगर निकाय के अधिकारियों से उन्हें भोजन और अन्य बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराने के लिए कहा गया है.

उन्होंने कहा, ‘‘हमने भारतीय दंड संहिता की धारा 269 और 188द के तहत मामला दर्ज किया. दोनों को हिरासत में लिया गया है.’’
Share To:

Post A Comment: