नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए सरकार ने देशभर में लॉकडाउन (Lockdown) का ऐलान किया था, लेकिन अब लोगों का एक शहर से दूसरे शहर पलायन करना भी बड़ी समस्या बनता जा रहा है. दिल्ली (Delhi) से लेकर महाराष्ट्र (Maharastra), गुजरात में शहर छोड़कर जा रहे लोगों की तदाद बढ़ती ही जा रही है.



इसे रोकने के लिए गृह मंत्रालय भी पुलिस को आदेश जारी कर चुका है. साथ ही अब हर राज्य ने अपने कंट्रोल रूम का नंबर जारी किया है. देश में कोई कहीं भी फंसा हो, वह अपने राज्य में फोन कर परेशानी बता सकता है. ऐसा करने के बाद संबंधित राज्य उस परेशानी को दूर करने में मदद करेगा.
खाने और रहने की परेशानी के चलते छोड़ रहे हैं शहर

अभी तक की मीडिया रिपोर्टस की मानें तो शहर छोड़कर घर की ओर जाने वालों में सबसे ज़्यादा मजदूर वर्ग के लोग हैं. ये वो लोग हैं जो किसी न किसी ठेकेदार के काम से जुड़े हुए होते हैं.



बॉर्डर पर खड़े और रास्ते में चलते चले जा रहे मजदूरों ने बताया कि खाने-पीने के पैसे खत्म हो चुके हैं. ठेकेदार अब मिल नहीं रहा है. अपना फोन बंद कर लिया है. सड़क किनारे झुग्गी में कब तक पड़े रहेंगे इसलिए घर जा रहे हैं.
दिल्ली सरकार ने किया है रहने और खाने का इंतजाम



दिल्ली और उससे सटे शहरों से भी बड़ी संख्या में लोग यूपी के शहरों की ओर जा रहे हैं. बीते दो दिनों में यह आंकड़ा ज़्यादा बढ़ गया है. इसी के चलते दिल्ली सरकार ने दिल्ली के 300 से ज़्यादा स्कूलों को शेल्टर होम बनाया है. यहीं पर खाने का इंतजाम किया जा रहा है. सीएम अरविंद केजरीवाल क कहना है कि हमने हर रोज दो वक्त 4 लाख लोगों को खाना खिलाने का इंतजाम किया है. अगर खाना खाने वालों की संख्या बढ़ी तो हम उसका भी इंतजाम करेंगे.
Share To:

Post A Comment: