महाराष्ट्र से बिहार के लोगों को लेकर चली ट्रेन 22 मार्च को दानापुर पहुंच जाएगी. COVID-19 की जांच के लिए इन्‍हें सबसे पहले अस्‍पताल भेजा जाएगा. इसके बाद ही ये लोग अपने-अपने घरों को जा सकेंगे.

दानापुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनता कर्फ्यू (Janta Curfew) की अपील पर पूरा देश 22 मार्च को एकजुट है. वहीं, महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) के फैसले के कारण दानापुर रेल मंडल के सामने नई समस्या पैदा हो गई है. दानापुर रेल मंडल और पटना जिला प्रसाशन की नींद इस बात से उड़ी हुई है कि महाराष्ट्र से रविवार को हजारों की संख्या में बिहार वासियों को स्पेशाल ट्रेनों से दानापुर भेजा जा रहा है. महाराष्ट्र से इनको लेकर चली ट्रेन 22 मार्च की सुबह ही दानापुर पहुंच जाएगी. इन यात्रियों के आगमन की तैयारियों का मुआयना 21 मार्च को जिलाधिकारी कुमार रवि और एसएसपी पटना उपेंद्र शर्मा ने लिया है.



कोरोना वायरस को लेकर महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा अलर्ट देखा गया है. कोरोना के संक्रमण के चलते महाराष्ट्र में लोगों की मौत भी हुई है. महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में अलर्ट जारी है और यहां की दुकानें और मॉल बंद हैं. यही वजह है कि वहां काम करनेवाले लोग अपने घर लौट रहे हैं. महाराष्ट्र में बड़ी तादाद में बिहार के लोग काम करते हैं. इन्‍हें स्पेशल ट्रेनों से भेजा जा रहा है. ये यात्री रविवार और सोमवार को दानापुर पहुंचेंगे.
पुणे और मुंबई से आ रही हैं ट्रेन
जिला प्रशासन और रेल प्रशासन की मेडिकल टीम इन यात्रियों में कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच करेगी और जो लोग संदिग्ध पाए जाएंगे उन्हें आइसोलेशन में रखा जाएगा. इनलोगों को रेलवे सुपरस्पेशलिटी अस्पताल और दानापुर अनुमंडल अस्पताल में भेजा जाएगा. जिलाधिकारी कुमार रवि ने बताया कि महाराष्ट्र के पुणे और मुम्बई से ट्रेन आ रही हैं, जिनकी जांच के लिए मेडिकल टीम लगाया गया है.

दानापुर में ​होगी जांच
डीआरएम (दानापुर) सुनील कुमार बताया कि महाराष्ट्र से चार स्पेशल ट्रेन से बिहार के लोगों को भेजा जा रहा है, जिनकी सुरक्षा के लिए दानापुर रेल मंडल के तरफ से तैयारी की गई है. हम पूरी तरह से अलर्ट हैं. महाराष्ट्र से आए लोगों की जांच करने के बाद ही उनको उनके घरों के लिए रवाना करवाया जाएगा. इसके लिए हमने दानापुर स्टेशन के आसपास के जगहों को चिन्हित किया है.

Share To:

Post A Comment: