CoronaVirus Bihar News Update: गुरुवार को बक्‍सर के एक युवक व एक वृद्ध को कोरोना संक्रमित पाया गया है। इसके साथ बिहार में अभी तक कोरोना के 74 पॉजिटिव मामले मिल चुके हैं। जबकि, मुंगेर के एक कोरोना पॉजिटिव युवक की मौत हो चुकी है। राज्‍य के कई इलाकों में मरीजों की बढ़ती संख्‍या चिंता का सबब भी बनी है।
जहां तक हॉट-स्‍पॉट (Hot Spot) या रेड जोन (Red Zone) की बात है, बिहार में सिवान, मुंगेर, बेगूसराय व गया कोरोना को बड़े हॉट-स्‍पॉट (रेड जोन) बनकर उभरे हैं। राज्‍य के नौ जिले ऑरेंज जोन में तो 25 जिले कारोना फ्री या ग्रीन जोन (Green Zone) में हैं। राहत की बात यह भी है कि बिहार में संक्रमित मरीज लगातार ठीक हो रहे हैं और कोरोना के सामुदायिक संक्रमण की स्थिति नहीं है।
रेड जोन में बिहार के चार जिले शामिल
केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण विभाग की सचिव प्रीति सूदन के पत्र के अनुसार देश के 170 जिले कोरेाना के हॉट-स्‍पॉट हैं, जिन्‍हें रेड जोन में रखा गया है। इनमें बड़े पैमाने पर कोरोना केस वाले 123 जिलों में बिहार का सिवान भी शामिल है। रेड जोन की दूसरी श्रेणी में वैसे जिले हैं, जहां कोरोना पॉजिटिव मामलों के क्‍लस्‍टर मिले हैं। देश के ऐसे 47 जिलों में बिहार के मुंगेर, बेगूसराय व गया शामिल हैं। बिहार में अभी तक मिले मामलों में सर्वाधिक 29 सिवान के हैं। सिवान का रघुनाथपुर स्थित पंजवार गांव कोरोना का केंद्र बन गया है। आठ मामलों के साथ बेगूसराय दूसरे स्‍थान पर है। मुंगेर में आठ तो गया में पांच मामले मिले हैं।
राज्‍य का सबसे बड़ा हॉट-स्‍पॉट बना सिवान
बिहार में कोरोना के सबसे बड़े हॉट.स्‍पॉट के रूप में सिवान उभरा है। वहां अभी तक 29 मरीज मिले हैं। सिवान का रघुनाथपुर स्थित पंजवार गांव कोरोना का केंद्र बन गया है। राहत की बात यह है कि यहां बीते कई दिनों से कोरोना का एक भी मामला नहीं मिला है, साथ ही मरीज लगातार स्‍वस्‍थ हो रहे हैं। गुरुवार को भी पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल में भर्ती सिवान के आठ कोरोना पॉजिटिव मरीज दूसरी जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद डिस्‍चार्ज किए जा रहे हैं। अस्‍पताल के अधीक्षक डॉ. निर्मल कुमार सिन्हा ने बताया कि इनमें सिवान के रघुनाथपुर थाना अंतर्गत पंजवार गांव के एक ही परिवार के छह सदस्य शामिल हैं। 
सिवान में अगर 28 दिनों तक कोरोना का कोई नया मामला नहीं मिलता है, तभी यह जिला हॉट-स्‍पॉट या रेड जोन से बाहर निकलेगा। इसके लिए प्रशासन प्रयास कर रहा है। जिले के आठ लाख से ज्यादा घरों में रहने वाले 40 लाख लोगों की स्क्रीनिंग शुरू है। इसे आठ दिनों में पूरा करना है। जिला स्तर पर 24 व पंचायत स्तर पर 301 क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं, जिनमें 1449 लोगों को रखा गया। इनमें से 1197 लोगों को 14 दिनों की अवधि पूरी करने के बाद उनके घर भेज दिया गया है। उप विकास आयुक्‍त सुनील कुमार ने बताया कि प्रखंड स्तर पर बने क्वारंटाइन सेंटरों में वर्तमान समय में 269 लोग हैं।
दूसरे रेड जोन बेगूसराय का तब्‍लीगी कनेक्‍शन
बिहार के दूसरे बड़े रेड जोन बेगूसराय में संक्रमितों का आंकड़ा आठ तक पहुंच गया है। यहां अबतक मिले सभी संक्रमित तब्‍लीगी जमात में शामिल लोगों के संपर्क में रहे हैं। सोमवार को भी यहां बरौनी प्रखंड का एक युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया। स्वास्थ्य विभाग यहां पल्‍स पोलियो टीकाकरण अभियान की तरह घर-घर जाकर लोगों की स्‍क्रीनिंग कर रहा है। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. हरेराम कुमार सिंह ने बताया कि यह अभियान 16 से 23 अप्रैल तक चलेगा। 
मुंगेर का रेड जोन से बाहर निकलने का टूटा सपना

बीते 15 दिनों के अंदर मुंगेर में एक भी कोरोना पॉजिटिव मामला नहीं मिला था। पर, कोरोना फ्री बन चुके मुंगेर में बुधवार को फिर एक मामला मिलने के कारण उसका रेड जाेन की श्रेणी से बाहर निकलने का सपना टूट गया। वहां बुधवार को 60 साल के एक वृद्ध को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। इसके पहले मिले सात मरीजों में एक की मौत हो गई थी। जबकि, शेष छह के स्‍वस्‍थ हो गए थे।
28 दिनों तक नहीं मिला मामला तो रेड जोन नहीं रहेगा गया
बिहार के गया जिले में बीते कुछ समय से कोरोना पॉजिटिव मामला सामने नहीं आया है। यहां अभी तक कुल पांच मरीज मिले हैं। गया में अगर लगातार 28 दिनों तक कोई नया मामला नहीं मिलता है तो यह जिला रेड जोन की श्रेणी से बाहर निकल जाएगा।
ऑरेंज जोन में बिहार के नौ जिले, अंतिम एंट्री बक्‍सर की
हॉट-स्‍पॉट जिलों के अलावा कुछ अन्‍य जिलों में भी करोना के मामले मिले हैं। इन जिलों को ऑरेंज जोन में रखा गया है। इनमें पटना, गोपालगंज, नवादा, नालंदा, सारण, लखीसराय, भागलपुर, वैशाली व बक्‍सर हैं। पटना में बीते दो सप्‍ताह से संक्रमण की चेन टूटती दिख रही थी, लेकिन बुधवार को नया मामला मिलने के साथ कोरोना के कुल छह मामले मिल चुके हैं। गोपालगंज में तीन, नवादा में तीन, नालंदा में छह मामले मिले हैं।
गुरुवार को मिले दो नए मामले बक्‍सर के हैं। सारण, लखीसराय, भागलपुर व वैशाली में एक-एक कोरोना पॉजिटिव मामले मिले हैं।
20 अप्रैल से कुछ जगहों पर मिल सकती राहत
बीते मंगलवार को समाप्‍त हो रहे लॉकडाउन को तीन मई तक के लिए बढ़ा दिया है। हालांकि, 20 अप्रैल से वैसी कुछ जगहों पर कुछ छूट दी जाएगी, जहां कोरोना के मामले नहीं मिलेंगे। अगर ऐसा हुआ तो बिहार के ग्रीन जोन में शामिल ऐसे 25 जिलों में, जहां कोरोना का एक भी मामला नहीं मिला है, 20 अप्रैल के बाद कुछ राहत की उम्‍मीद है।
बिहार के 25 ग्रीन जोन वाले कोरोना फ्री जिले, एक नजर...
- पश्चिम चंपारण
- पूवीं चंपारण
- सीतामढ़ी
- शिवहर
- मुजफ्फरपुर
- समस्तीपुर
- दरभंगा
- मधुबनी
- सहरसा
- सुपौल
- मधेपुरा
- खगड़िया
- अररिया
- किशनगंज
- कटिहार
- पूर्णिया
- बांका
- जमुई
- शेखपुरा
- अरवल
- जहानाबाद
- औरंगाबाद
- रोहतास
- कैमूर
- आरा
Share To:

Post A Comment: