कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण देश भर में लगातार बढ़ता जा रहा है. ऐसे में इसे रोकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी (Pm Modi) लगातार प्रभावी कदम उठा रहे हैं. आखिर कोरोना के खिलाफ लड़ाई को और और कैसे मजबूत किया जाय इस सिलसिले में उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से फोन पर बातचीत की है. इसके अलावा उन्होंने विपक्ष के कई नेताओं से भी बातचीत की जिसमें सोनिया गांधी और ममता बनर्जी भी शामिल हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी राजनीतिक दलों और समाज के हर वर्ग को एक मंच पर लाने की कोशिश में जुटे हैं.
कई बड़े नेताओं से की बातसूत्रों  के मुताबिक पीएम ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से बातचीत की. इसके अलावा उन्होंने पूर्व पीएम डॉक्टर मनमोहन सिंह को भी कॉल किया. साथ ही उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल से भी बातचीत की.  इस सिलसिले में पीएम ने सोनिया गांधी से भी बातचीत की. इसके अलावा समाजवादी पार्टी के सीनियर नेता मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव, तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, बीजू जनता दल  सुप्रीमो और ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक, डीएमके चीफ एम के स्टालिन और तेलंगाना के सीएम केसीआर से भी फोन पर बात की. उन्होंने अकाली दल के सीनियर नेता प्रकाश सिंह बादल को भी फोन मिलाया.
इन मुद्दों पर हुई चर्चा
सूत्रों के मुताबिक बातचीत के दौरान पीएम ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए उठाए गए कदमों पर चर्चा की. साथ ही उन्होंने इस गंभीर मसले पर बाकी नेताओं की राय भी ली. बता दें कि पिछले महीने पीएम मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश भर में 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया था. लेकिन सोनिया गांधी सहित कांग्रेस के कई नेताओं ने सरकार पर आरोप लगाया था कि बिना तैयारी के लॉकडाउन को लागू कराया गया है. हालांकि पीएम मोदी और बीजेपी के सारे नेता कह रहे हैं कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए उनके पास कोई चारा नहीं था. पीएम मोदी बार-बार ये दोहरा रहे हैं कि सोशल डिस्टेंसिंग ही इस वायरस से बचने का सबसे कारगर तरीका है.
Share To:

Post A Comment: