गया : गया मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती विवाहिता के साथ चिकित्सक के द्वारा दुष्कर्म किये जाने की खबर है।अस्पताल से घर लौटे विवाहिता की मौत भी हो गयी है। शुरू में बात छिपाई गई ।लेकिन सोशल मीडिया पर जैसे ही यह घटना वायरल होने लगा तो गया के मेडिकल थाना अध्यक्ष ने फहीम खां आजाद ने पीड़िता के परिजनों से बात की तो परिजनों ने चिकित्सक और सुरक्षाकर्मी पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है ।वहीं मेडिकल थानाध्यक्ष का कहना है  पीड़िता के परिवार की तरफ से कोई लिखित आवेदन नहीं मिला है, आवेदन मिलने पर जांच की कार्रवाई की जाएगी।
24 वर्षीय पीड़िता लॉक डाउन की वजह से लुधियाना से वापस लौटी थी
स्थानीय अखबार दैनिक जागरण में छपी खबर के मुताबिक 24 वर्षीय पीड़िता कोरोना वायरस की वजह से लगाए गए लॉक डाउन के कारण अपने परिवार के साथ 25 मार्च को लुधियाना से लौटी थी। 2 माह की गर्भवती पीड़िता को अत्यधिक रक्तस्राव के कारण कुछ ही दिन पहले गर्भपात करवाया गया था।
गांव लौटने पर उसका स्वास्थ्य ठीक नहीं था। इसे देखते हुए उसके परिवार ने 27 मार्च को उसे मगध मेडिकल कॉलेज के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया। जहां 1 अप्रैल को कोरोना संक्रमण की आशंका को देखते हुए उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करा दिया गया।
बताया जा रहा है कि वह पूरे आइसोलेशन वार्ड में अकेली  थी ।उसे अकेली पाकर नियमित जांच करने आने वाले एक चिकित्सक ने उसके साथ रेप किया। 3 अप्रैल को उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उसे अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था। लेकिन ससुराल लौटते हीं उसकी सोमवार को मृत्यु हो गई।अस्पताल से लौटने के बाद भी उसका रक्तस्राव नहीं रुक।सास की माने तो घर लौटने पर पीड़िता बहुत डरी - सहमी रहती थी। इस बाबत जब उससे पूछा गया तो बतायी की माथे पर टीका लगाकर आने वाला एक चिकित्सक ने एक रात अकेली पाकर उसके साथ रेप किया था।

Share To:

Post A Comment: