PATNA : लॉकडाउन के दौरान बड़ी राहत वाली खबर सामने आयी है । बिहार में लॉकडाउन में बंद पड़े ईंट-भट्ठों और सीमेंट उद्योग का चालू किया जाएगा। सरकार ने कुछ शर्तों के साथ इन दोनों को लॉकडाउन में उत्पादन की मंजूरी दी है। बिहार में 5500 ईंट-भट्ठों और सीमेंट उद्योग के चालू होने से करीब ढ़ाई लाख मजदूरों को लॉकडाउन में भी रोजगार मिल सकेगा।
डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा कि भारत सरकार के दिशा-निर्देश के बाद कतिपय शर्तों के साथ बिहार में कार्यरत 5,500 से ज्यादा ईंट-भट्ठों और सीमेंट उद्योग को उत्पादन की अनुमति दी गयी है। परंतु लॉकडाउन के दौरान उत्पादित ईंट और सीमेंट की बिक्री पर पूर्व की तरह यथावत रोक रहेगाी।उन्होनें बताया कि लॉकडाउन के दौरान इस शर्त के साथ अनुमति दी गयी है ईंट-भट्ठा संचालक राज्य और बाहर के करीब ढाई लाख मजदूरों के खान-पान और रहने की व्यवस्था कार्यस्थल पर ही करेंगे और उन्हें सुरक्षा सबंधित सभी मानकों यथा मास्क, सैनिटाइजर उपलब्ध कराने के साथ उनके सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ख्याल रखेंगे।
सुशील मोदी ने बताया कि  लॉकडाउन के कारण उत्पादन का काम बंद होने से लाखों मजदूर बेरोजगार हो गए थे और उनका कहीं आना-जाना भी संभव नहीं था, ऐसे में उत्पादन की अनुमति मिलने से न केवल उन्हें रोजगार उपलब्ध होगा बल्कि उनके रहने व खाने-पीने की व्यवस्था भी हो जायेगाी। उन्होनें बताया कि ईंट-भट्ठा क्षेत्र में किसी बाहरी व्यक्ति की आवाजाही प्रतिबंधित रहेगी। ईंट-भट्ठा संचालक व उनके एक-दो व्यक्तियों को डीएम द्वारा ईंट-भट्ठा पर आवश्यक सुविधा उपलब्ध कराने के लिए पास निर्गत किया जायेगा। समय-समय पर डीएम ईंट-भट्ठों का अनुश्रवण करेंगे और शर्तों का उल्लंघन करने वाले संचालकों पर कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे। उपरोक्त शर्तों के ही आधार पर राज्य में कार्यरत सीमेंट उद्योग को भी उत्पादन प्रारंभ करने की अनुमति दी गयी है।
Share To:

Post A Comment: