झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ लगातार पुलिस और सीआरपीएफ के द्वारा संयुक्त अभियान चलाया जा रहा है. कुछ दिन पहले ही पुलिस को उड़ाने की नक्सलियों की साजिश को सुरक्षाबल ने नाकाम किया. और चार आइडी बम भी बरामद किया.
वहीं पुलिस को आइईडी की सुचना कैसे मिली यह पता लगाया जा है. चर्चा है माओवादियों के द्वारा पुलिस को सुचना देनेवाले को चिन्हित करने की जिम्मेवारी हार्डकोर नक्सली सुमा राणा को दी गयी है. सुमा राणा एक दस्ते को लीड कर रही है. अपने दस्ते के साथ सुमा बुधवार की दोपहर को झारखंड बिहार के सीमा पर अवस्थित चकाई थाना क्षेत्र के मंझलाडीह गांव के पास जंगल पहुंचकर कई लोगो से पूछताछ कर आइईडी के बारे में जानकारी भी लिया. सूचना ये भी आ रही है कि मंझलाडीह जंगल में नक्सलियों द्वारा एक बैठक की गयी. इधर माओवादियों के मंझलाडीह पहुंचने की सुचना मिलने पर पुलिस और सीआरपीएफ माओवादियों के दस्ता में शामिल माओवादी को पकड़ने के लिए घेराबंदी की जा रही है.
सिद्धू कोड़ा की मौत की बदला लेना चाहते हैं माओवादी'
भाकपा माओवादी झारखंड बिहार के जोनल इलाके के पुर्व  कमांडर सिद्धू कोड़ा की मौत की बदला लेने के लिए भाकपा माओवादी के द्वारा पंद्रह पंद्रह किलोग्राम का चार आईडी को तैयार किया गया था. चारों बम को ट्रांसप्लांट करने के लिए माओवादियों के द्वारा स्थान चिन्हित किया जा रहा था. लेकिन इसके पुर्व में हीं सीआरपीएफ ने कार्रवाई कर बरामद कर लिया.
जोनल कमांडर सिद्धू कोड़ा को बीते 22 फरवरी को दुमका से गिरफ्तार किया गया था. गिरफ्तारी के बाद पुलिस हिरासत में ही सिद्धू कोड़ा की मौत हो गयी थी
Share To:

Post A Comment: