पटना. डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने गुरुवार को मेडिकल टीम और पुलिसकर्मियों पर हमला करने वालों को चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि अगर कोई स्वास्थ्य कार्यकर्ता, चिकित्सा अधिकारी, सरकारी कर्मचारी, मजिस्ट्रेट या पुलिस के साथ दुर्व्यवहार करता है तो हम इसे बहुत सख्ती से लेंगे। वे किसी भी जाति या धर्म से संबंधित हों, हम परवाह नहीं करेंगे। जो कानून तोड़ेगा उसे नहीं छोड़ेंगे। पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई में कोई भेदभाव नहीं कर रही है।

चार जिलों में लोगों ने किया था पुलिस पर हमला
बुधवार को बिहार के चार जिलों में लोगों ने मेडिकल टीम और पुलिसकर्मियों पर हमला किया था। औरंगाबाद के गोह थाना क्षेत्र के अकौनी गांव में कोरोना के संदिग्ध मरीज की जांच करने पहुंची मेडिकल टीम और पुलिस बल पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया था। जिसमें मेडिकल स्टाफ और एसडीपीओ समेत 12 लोग जख्मी हो गए थे।

पूर्वी चम्पारण जिले के हरसिद्धि प्रखंड के जागापाकड़ पंचायत के भैया टोला में ग्रामीणों ने बीडीओ, स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों और पुलिस के जवानों पर हमला कर दिया था। बेगूसराय के मुख्य बाजार में लोगों ने पुलिस पर पिटाई का आरोप लगाकर हंगामा किया था। इस दौरान लोगों ने पथराव भी किया था। जहानाबाद के काको बाजार में लॉकडाउन का उल्लंघन करने को लेकर पुलिस और पब्लिक के बीच भिड़ंत हो गई थी।
Share To:

Post A Comment: