उत्तर प्रदेश में ग़ाज़ियाबाद के एक हॉस्पिटल में नर्सों के साथ बदतमीजी का आरोप तबलीग़ी जमात के सदस्यों पर लगा था. शुक्रवार को इस मामले में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अभियुक्तों के ख़िलाफ़ सख़्त नेशनल सिक्यॉरिटी एक्ट लगा दिया है.
उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार ने कहा है कि इंदौर जैसी घटना उत्तर प्रदेश में नहीं होने दी जाएगी. जमात के कुछ सदस्यों पर आरोप है कि उन्हें ग़ाज़ियाबाद के सिटी हॉस्पिटल में जाँच के लिए लाया गया तो सुरक्षाकर्मियों और सरकारी अधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार किया.
इसके आलवा यह आरोप भी है कि अस्पताल में भर्ती किए जाने पर नर्सों के साथ भी बदतमीज़ी की. ग़ाज़ियाबाद में जमात के 156 लोगों को क्वारंटीन में रखा गया है. दिल्ली के निज़ामुद्दीन में जमात का एक धार्मिक आयोजन हुआ था और इसमें कई लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे.
चीफ़ मेडिकल ऑफिसर एनके गुप्ता ने कहा है कि 90 लोगों को सुंदर दीप कॉलेज में और 56 लोगों को सूर्या हॉस्पिटल में क्वारंटीन में रखा गया है. बदतमीज़ी के आरोप एमएमजी अस्पताल में लगे हैं.
पूरे मामले पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है, ''ये न तो क़ानून का पालन करेंगे और न ही आदेश स्वीकार करेंगे. ये मानवता के दुश्मन हैं. इन्होंने महिला स्वास्थ्यकर्मियों के साथ जो किया है वो संगीन अपराध है. हम इन पर एनएसए लगा रहे हैं. इन्हें ऐसे ही नहीं छोड़ दिया जाएगा.''

S

Share To:

Post A Comment: