नई दिल्ली. एक तरफ बिहार के 15 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राएं बोर्ड की दसवीं कक्षा के ​नतीजों का इंतजार कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर बोर्ड की 12वीं की क्लास के स्टूडेंट्स को राहत भरी खबर मिली है. बता दें कि बिहार बोर्ड (Bihar Board) ने अभी तक दसवीं के नतीजों का ऐलान नहीं किया है, लेकिन माना जा रहा है कि बोर्ड गुरुवार शाम तक या फिर शुक्रवार को नतीजे घोषित कर देगा. जहां तक 12वीं क्लास की बात है तो बोर्ड ने इस साल 24 मार्च को ही परिणाम घोषित कर दिए थे.

12वीं के बच्चों के लिए अहम ऐलान

दरअसल, बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (Bihar School Examination Board) अगले साल यानी 2021 से नई मार्किंग स्कीम लागू करने जा रहा है. ​बोर्ड के अनुसार, अगर कोई स्टूडेंट कंपल्सरी सब्जेक्ट में क्वालीफाई करने लायक नंबर भी नहीं ला पाता है तो फिर अतिरिक्त विषय के नंबर उसके रिजल्ट में समायोजित कर दिए जाएंगे.

अनिवार्य विषय में फेल होने पर मिलेगा अतिरिक्त विषय का सहारा

बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (Bihar School Examination Board) ने इसे लेकर हाल ही में एक ट्वीट किया है, जिसमें बताया गया है कि इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा, 2021 से अनिवार्य विषय में फेल होने पर अतिरिक्त विषय का सहारा छात्र-छात्राओं को मिलेगा. यानी किसी अनिवार्य विषय में फेल होने पर उसकी जगह पर अतिरिक्त विषय के अंक कुल प्राप्तांक में जोड़ दिए जाएंगे.

2017 में 50 प्रतिशत और 2020 में 80 प्रतिशत बच्चे पास

बिहार की शिक्षा व्यवस्था में हुए जबरदस्त सुधार का ही परिणाम है कि साल 2017 में जहां बारहवीं क्लास का पास प्रतिशत महज 50 फीसदी रहा था, वहीं इस साल बारहवीं क्लास का रिजल्ट 80.44 फीसदी रहा है. जहां तक दसवीं क्लास की बात है तो पिछले साल दसवीं में 80.73 फीसदी बच्चे पास हुए थे.


Share To:

Post A Comment: