PATNA: कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण की वजह से बंद किये गए स्कूल/कोचिंग अब खुल सकते है लेकिन छात्रों के लिए नहीं. पटना के  प्रमंडलीय आयुक्त ने संजय कुमार अग्रवाल ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि ऑनलाइन स्टडी मेटेरियल तैयार करने एवं ऑनलाइन पढ़ाई कराने हेतु कोचिंग व स्कूल प्रबंधन कर सकते हैं स्कूल/कोचिंग खोलकर कंम्प्यूटर/लैब आदि का इस्तेमाल कर सकते है.

प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल ने पटना प्रमंडल के सभी जिलों को दिया निर्देश

- विद्यार्थी नहीं जा पायेंगे कोचिंग व स्कूल

- विद्यालय/कोचिग प्रबंधन को सोशल डिस्टेंस के प्रोटोकॉल का करना होगा पालन

- कोविड - 19 के दौरान कोरेन्टाइन सेंटर का सफलतापूर्वक संचालन एवं स्कूली बच्चों की ऑनलाइन क्लास के लिए प्रमंडलीय आयुक्त ने पटना जिलाधिकारी के साथ कि  समीक्षा बैठक

- प्रमंडलीय आयुक्त ने स्कूल प्रबंधन को कहा स्टडी मेटेरियल व्हाट्सएप, ईमेल, पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन पहुचायें

लाॅक डाउन की अवधि में ऑनलाइन स्टडी मेटेरियल तैयार करने एवं आॅनलाइन पढ़ाई कराने हेतु कोचिंग व स्कूल प्रबंधन स्कूल/कोचिंग खोलकर में कंम्प्यूटर और लैब आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस संबंध में प्रमंडलीय आयुक्त श्री संजय कुमार अग्रवाल ने पटना प्रमंडल के सभी जिलों को निर्देश दिया है। परिवहन भवन मुख्यालय स्थित अपने कार्यालय कक्ष में शुक्रवार को प्रमंडलीय आयुक्त श्री संजय कुमार अग्रवाल ने कोविड-19 से संबंधित पटना जिलाधिकारी श्री कुमार रवि के साथ समीक्षा बैठक की तथा आवश्यक निर्देश दिया।

रोस्टवार टीचर्स जा सकेंगे स्कूल/कोचिंग

प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल ने कहा कि राजधानी के स्कूल एवं कोचिंग आॅनलाइन क्लास हेतु सीमित कार्यों के लिए खोल सकेंगे। लेकिन वहां बच्चों की पढ़ाई नहीं होगी सिर्फ ऑनलाइन क्लास हेतु स्टडी मेटेरियल तैयार करने के लिए टीचर्स सीमित संख्या में रोस्टवार स्कूल जा सकेंगे। उन्होंने  कहा कि स्कूल और कोचिंग में टीचर्स सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कार्य करेंगे। 

सभी प्राइवेट स्कूल ONLINE क्लास का संचालन जारी रखेंगे

उन्होंने कहा कि  लॉक डाउन की वजह से स्कूल, कॉलेज सभी तरह के संस्थान बंद हैं और सभी लोग अपने अपने घरों में लॉक डाउन हैं। इस दौरान स्कूली बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो एवं बच्चों में पढ़ाई की निरंतरता बनी रहे इसके लिए सभी प्राइवेट स्कूल ऑनलाइन क्लास संचालित करते रहेंगे।

प्रमंडलीय आयुक्त ने कुछ विद्यालयों की सराहना की है,  जिनके द्वारा छात्र - छात्राओं को ऑनलाइन तथा व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से लगातार गाइड किया जा रहा है । साथ ही वीडियो एवं स्टडी मैटेरियल उपलब्ध करवाकर छात्र - छात्राओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है।

 प्रमंडलीय आयुक्त  संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि “लॉकडाउन” का यह समय बच्चों, अध्यापकों एवं अभिभावकों तीनों के गोल्डन अपॉर्चुनिटी है। स्टूडेंट्स ई - क्लासेस, प्रोजेक्ट्स, एक्क्टविटीज, फन, गेम्स के माध्यम से अपने आप को और बेहतर बनाएं । अध्यापकों के लिए खुद को अपग्रेड करने का यह सनुहरा मौका है। ऑन-लाइन टीचिंग मैटेरियल e-content वीडियो, लेसन प्लान में विशेषज्ञता  कर सकते हैं।

प्रमंडलीय आयुक्त द्वारा यह भी अनुरोध किया है कि केवल किताबी पढ़ाई पर ध्यान फोकस ना करें अपितु एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज को भी प्रोत्साहित करें ताकि इस लॉक डाउन की अवधि में बच्चे क्रिएटिव राइटिंग क्रिएटिव वर्क तथा घर के कार्यों में अपने पेरेंट्स की मदद करें।

प्रमंडलीय आयुक्त ने प्रखंड क्वॉरेंटाइन सेंटर  के सफल एवं सुचारु संचालन हेतु जिलाधिकारी को निर्देश दिया। उन्होंने सेंटर पर प्रवासी श्रमिकों का निबंधन करने, मेडिकल चेकअप करने तथा भोजन एवं आवासन की सुदृढ़ व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा। इस क्रम में सेंटर की साफ-सफाई, सामुदायिक कीचेन का संचालन करने ,सेंटर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित करने तथा स्वास्थ्य कर्मी को सक्रिय एवं तत्पर करने का दिया निर्देश।

प्रमंडलीय आयुक्त ने दिया यह निर्देश

- प्रमंडलीय आयुक्त ने क्वॉरेंटाइन सेंटर पर प्रवासी श्रमिकों के कार्य की विशिष्टता एवं क्षमता का आकलन करने एवं उसके अनुरूप रोजगार उपलब्ध कराने को कहा।

- कार्यस्थल पर श्रमिकों को मास्क का प्रयोग करने, नियमित अंतराल पर साबुन से हाथ धोनेध् सैनिटाइजर का प्रयोग करने तथा सामाजिक दूरी कायम रखने का निर्देश दिया।

- शहर में संचालित आपदा राहत केंद्रों पर भोजन एवं आवासन की समुचित व्यवस्था करने तथा प्रभावी मॉनिटरिंग करने को कहा।

- क्वॉरेंटाइन सेंटर की प्रतिदिन सशक्त एवं प्रभावी मॉनिटरिंग करने का दिया निर्देश।
Share To:

Post A Comment: