शुक्रवार का दिन मां लक्ष्मी को समर्पित है. इस दिन पूजा करने से माता लक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है. वहीं ग्रहों की अशुभता को भी दूर करती है. इस दिन विधि पूर्वक पूजा करने से जीवन में धन की कमी दूर होती है और घर में सुख समृद्धि आती है.

जन्म कुंडली के दो’ष दूर करती हैं

ऐसी मान्यता है कि मां लक्ष्मी जन्म कुंडली में जब कोई ग्रह अशुभ फल प्रदान करने लगता है जिसके कारण जीवन में नित नई परेशानियां आने लगती हैं तो मां लक्ष्मी की पूजा जरुर करनी चाहिए. वहीं जिन लोगों को शुक्र ग्रह से संबंधित कोई परे’शानी है उन्हें भी इस दिन पूजा करने से लाभ मिलता है.



पूजन विधि



सुबह स्नान करने के बाद पूजा करें. पूजा में सफेद कमल के पुष्प अर्पित करें. मिष्ठान का भोग लगाएं. इसके बाद शाम को घर के मुख्य दरवाजे पर दीपक जलाएं.



शुभ मुहूर्त



11: 59 से 12:49 तक.




धन प्राप्ति के लिए

धन की प्राप्ति के लिए शुक्रवार के दिन केसर और दूध मिलाकर दक्षिणावर्ती शंख में भरकर भगवान विष्णु का अभिषेक करने से लाभ मिलता है. सुबह देवी लक्ष्मी के चरणों में श्रीयंत्र रखकर उसका पूजन करने से भी मां लक्ष्मी का आर्शीवाद प्राप्त होता है.

आर्थिक प’रेशानी दूर करने के लिए

जीवन से आर्थिक संकट को दूर करने के लिए पीपल के 5 पत्तों को पीले चंदन से रंगकर बहते जल या तीर्थ स्थल में प्रवाहित करने, स’मस्या दूर होती है.

इस मंत्र का जाप करें

ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर, भूरि घेदिन्द्र दित्ससि.
ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्. आ नो भजस्व राधसि. (108 बार जाप करें)
मै चितरंजन कुमार पाण्डेय आपके साथ
Share To:

Post A Comment: