तीन लोग थे एक नौकर बाकी के दो दोस्त,  तीनो ने मिलकर हत्या कर दी । एक नए पैर दबाया, दूसरे ने दिनों हाथों को कस के पकड़ा तीसरे ने तकिया मुँह पे रख तब तक दबाया जबतक जान न निकल गई ।।इसके बात फांसी का जुगाड़ किया, सारे Documents निकाले और फर्जी दवा का पर्ची रखी और दरवाज़ा बन्द कर निकल गए ।

फिर शुरू हुआ नाटक फोन बाजी का बहन को बुलाया ( पुलिस को बुलाने की जरूरत नही समझी ) ताला खोलने वाले को बुलाया और सबके सामने चूतिया बन के खड़े तमाशा देखते रहे । पैसे की लिए मर्डर प्लान किया था इसके दोस्तों ने, गेम कोडिंग अरबों का खेल है।#सुशांत ने बनाया था जिसको अब उसके इन दो दोस्तों के पास है । नौकर को लालच दिया गया है । इस तरह से हुई है सुशांत की हत्या।

पुलिस से सवाल 
1. जब कोई आत्महत्या करता है तो उसकी बॉडी को हाथ लगाना कानूनन जुर्म है । किसने और क्यो उतार के फिंगर प्रिन्ट को गड़बड़ किया ।
2. लटकती लाश की बॉडी की फ़ोटो क्यो नही ली?
3. कमरे में स्टूल था या नही, सुशांत खुद कैसे लटक गया?
4. गले पर रस्सी के निशान, दोनों बाजुओं पे पकड़ के निशान? ( फ़ोटो देखें, कोहनी से ऊपर दोनों हाथों पर गहरे निशान है)।
5. जब कोई फांसी खुद लगाता है तो निशान गले से होते हुए दोनों जबड़ों के साइड से बनता है,लेकिन #सुशांत के गले पर निशान एकदम सीधे थे, जो किसी के घोटें जाने से बने अर्थात हरे सिल्क के कुर्ते को रस्सी की तरह से प्रयोग करते हुए किसी ने पीछे से गले मे फंदा बनाकर कस कर खींचा जिससे इतना गहरा सीधा निशान गले पर बना ।
6. बाई आंख पर नीला निशान कैसा ? 
#CBI को इस एंगल पर विचार करना चाहिए और नौकर समेत इनके दोनों दोस्तो को थर्ड, फोर्थ, फिफ्थ जितनी भी डिग्री हो उतना टॉर्चर देकर, सच उगलवाना चाहिए। 
Share To:

Post A Comment: