राशन कार्ड नहीं बना तो बीडीओ से कहा सर मन करता है कि पूरे परिवार फांसी लगाकर मर जाएं 
----------------------------------------

सर मन करता है कि हम उन्नीसों व्यक्ति फांसी लगाकर मर जाएं उक्त बातें घटारो दक्षिण पंचायत के राजेश्वर साह ने जनसम्पर्क कर रहे लालगंज के भावी प्रत्याशी साथी और आपका फैसला (साफ) पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक मिथिलेश कुमार सिंह साथी को कही, इतना सुनते हीं मिथिलेश कुमार सिंह साथी ने उन्हें तुरंत अपने साथ गाड़ी में बैठा कर बीडीओ लालगंज के पास ले गये,बीडीओ से मिलकर उनकी समस्याओं को रखा,लालगंज बीडीओ राधा रमन मुरारी ने समस्या को सुनकर साथी जी को एक महीने के भीतर राजेश्वर शाह का राशन कार्ड बनाए जाने का आश्वासन दिया, राजेश्वर शाह ने बताया कि जनवरी 2018 में उनके घर की तीन महिला सदस्य देव मुनि देवी, विभा कुमारी और एक अन्य महिला सदस्य ने राशन कार्ड बनाने के लिए आवेदन किया था परंतु दो साल बाद भी राशन कार्ड नहीं बनाया गया है लॉकडाउन पीरियड में सरकार ने सभी राशन कार्ड धारियों को मुफ्त अनाज देने की बात कही थी,बीपीएल सूची में नाम होने एवं पुराना लाल कार्ड होने के बावजूद डीलर द्वारा राशन नहीं दिया गया,कहा गया की नया राशन कार्ड बनकर आयेगा तब हीं राशन मिलेगा,राजेश्वर साह बताते हैं कि इस साल 2020 में भी जीविका दीदी के माध्यम से राशन कार्ड बनाने के लिए आवेदन किया गया, डेढ़ माह बाद भी राशन कार्ड नहीं बन सका है उसने बताया की घटारो चौक पर उनकी चाय नास्ते की दुकान है लाॅकडाउन के समय दुकान बंदी रहने से उन्नीस लोगों का परिवार कर्ज में डूब गया है, राशन कार्ड मिला होता तो बाहर से अनाज खरीदना नहीं पड़ता,राजेश्वर ने बीडीओ लालगंज से मिलकर यही बात दुहराई और कहा सर आर्थिक तंगी से परेशान हैं दो बार आवेदन देने के बाद भी राशन कार्ड नहीं बना "सर मन करता है कि पूरे परिवार फांसी लगाकर कर आत्महत्या कर लें " उन्होंने यह भी कहा कि लाॅकडाउन में साथी जी ने मदद नहीं की होती तो हमलोग भूखे मर गये होते यह सुनकर बीडीओ ने उसे समझाते हुए कहा कि आत्महत्या समाधान नहीं हो सकता,राशन कार्ड बनाने का काम चल रहा है उसी में लगे हुए हैं,साफ पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक मिथिलेश कुमार सिंह साथी ने कहा कि लाॅकडाउन समाप्त हो गया अनलाॅक-2 जारी है इस दौरान अधिकांश पुराने राशन कार्ड धारी को राशन नही दिया गया,लाॅकडाउन पीरियड में जब मुफ्त राशन बांटने का समय था उस समय भूखे गरीबों से नया राशन कार्ड बनाने के लिए आवेदन लिया गया और 9 दिन के भीतर राशन कार्ड बनाने की बात सरकार द्बारा कही गई थीं लेकिन अबतक 80 प्रतिशत आवेदकों का राशन कार्ड नहीं बनाया गया है केन्द्र और राज्य सरकार के ढुलमुल रवैया के कारण राशन कार्ड बनाने का आवेदन, स्वीकृति और अस्वीकृति के बीच अटका हुआ है आम जनता भूखे मर रही है,उन्होंने कहा कि बिहार सरकार ने सभी को मुफ्त राशन उपलब्ध कराने का वादा किया था लेकिन वादे पर खड़ी नहीं उतरी,उन्होंने सरकार से सभी आवेदकों का राशन कार्ड बनाने की मांग की है.
Share To:

Post A Comment: