कई दिनों से बूंदाबांदी बारिश के कारण बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर आया ऊपर स्पीड भारत न्यूज़ रिपोर्टर प्रवीण कुमार
पिछले कुछ दिनों  में बूढ़ीगंडक नदी के जल ग्रहण वाले क्षेत्रों में बूंदा बूंदी
बारिश होने से नदी के जल ऊपर आ गया है। पानी के साथ भारी मात्रा में जलकुंभी बहुत सारे  तैर रहा है. नदी में पानी का बहाव भी काफी तेज हो गया है. जिले में नदी का प्रवाह क्षेत्र बूढ़ीगंडक नदी बेगूसराय जिला में रोसड़ा से चलकर नारायणपुर गांव के समीप जिले की सीमा में प्रवेश करती है. इसके बायें तटबंध के किनारे खोदावंदपुर प्रखंड का सागी, बाड़ा, दौलतपुर, बरियारपुर पश्चिमी, फफौत, मेघौल, चेरिया बरियारपुर प्रखंड के गोपालपुर, बसही, विक्रमपुर, श्रीपुर, चेरिया बरियारपुर, शाहपुर, पवड़ा, मंझौल अनुमंडल क्षेत्र से बखरी अनुमंडल में प्रवेश करती है. जहां से खगड़िया पहुंचकर गंगा में मिल जाती है. बाढ़ का मौसम आने के बाद नदी में पानी बढ़ने पर नदी किनारे निवास करनेवाले लोगों में प्रत्येक वर्ष बांध टुटने की चिंता सताने लगती है. वर्तमान में नदी में पानी का वृद्धि तो हुआ है, प्रवाह भी तेज है. बावजूद तटबंध को कोई खास खतरा नहीं है. क्योंकि पानी नदी के पेट में ही है. वर्षा का यही रफ्तार रहा तो आने वाले दिनों में बाढ़ की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है.
बांध में कई जगह  कटाव है
बूढ़ीगंडक नदी का धारा कहीं बांध में सटा है तो कहीं बांध से दूर है. नदी का धार जहां बांध में सटा है ऐसे स्थानों में, मोहनपुर, आकोपुर बिदुलिया मंथ, बाड़ा,  मिर्जापुर, बरियारपुर पश्चिमी, राम पुर घाट, फफौत, मालपुर,,  अन्य स्थानों में कटाव का खतरा बना रहता है.
बोले अधिकारी
वर्तमान में तटबंध पूरी तरह सुरक्षित है. नदी का प्रवाह भी खतरा के निशान से नीचे है. विभाग फलड फायटिंग योजना के तहत खतरा वाले संभावित स्थानों पर बचाव के उपकरणों को इकट्ठा कर रखा गया है. चौवीस घंटे बांध का निगरानी किया जा रहा है. लोगों को डरने की कोई आवश्यकता नहीं है.
Share To:

Post A Comment: